ब्लॉगिंग की रॉकेट स्टार्ट गाइड | Super Fast Guide

ये गाइड उनके लिए जिन्होने ब्लॉग तो बना लिया है पर अब समझ नहीं आ रहा कि आगे क्या करें, सुनते हैं देखते हैं कि क्वालिटी कंटेन्ट बनाओ, टॉपिक चुनो, अच्छी डिज़ाइन बनाओ, ट्रैफिक आएगा, Adsense मिलेगा, कैसे होगा क्या होगा, कनफ्यूज़ रहते हैं !

समझ नहीं आता कि टॉपिक के लिए कंटेन्ट कैसे लिखें ? कहाँ से जानें कि किस कंटेन्ट की डिमांड है ?

ब्लॉग किस पर बनाएँ ? WordPress या Blogger

इसमे कोई टेंशन की बात नहीं है आप Blogger.com से शुरू कर सकते हैं, यहाँ पर फ्री ब्लॉग बना सकते हैं और शुरू में यदि पैसों की दिक्कत है तो Domain की भी जरूरत नहीं है आप Blogger पर जो फ्री Subdomain मिलता है उस पर ही काम शुरू कर सकते हैं !

ब्लॉग की डिज़ाइन

ब्लॉग की डिज़ाइन के ज़्यादा चक्कर में मत पड़िए, जो साधारण सी डिज़ाइन हो वो ही रखिए, कुछ बातें याद रखिए !

  • आपके ब्लॉग पर ज़्यादातर लोग सीधे पोस्ट पर ही आएंगे, तो Home Page पर ज़्यादा पोस्ट लगाने का कोई औचित्य नहीं, 10-15 पोस्ट काफी हैं !
  • साइडबार में भी बहुत ज़्यादा चीजों की जरूरत नहीं, वो बेवजह आपकी वेबसाइट को Slow करेंगे, अगर साइडबार ना भी हो तो कोई परेशानी नहीं, आप फुटर में उन चीजों को लगा सकते हैं जो आप साइडबार में लगाने वाले थे, इससे आपका ब्लॉग की स्पीड तेज रहेगी !
  • Related Posts जरूर रखें 5-6 Related post रहें और 5 Recent Post रख लें !
  • Menu जरूर बनाएँ, और Policy Pages जरूर बना लें !
  • बहुत ज़्यादा रंग प्रयोग ना करें, ज़्यादा से ज़्यादा 2-3 !
  • HTTPS जरूर लगाएँ !

ये दो कोड लगाना जरूरी है

  1. Push Notification – लोगों को जोड़े रखने के लिए आज कल Push Notification बहुत अच्छा साधन है आप सीधे उनके Device पर Notification भेज सकते हैं, और लोगों को भी अपना ईमेल या कोई पर्सनल डीटेल भी शेयर नहीं करनी पड़ती !
  2. Google Analytics – ये भी जरूरी है अगर आप जानना चाहते हैं कि वास्तव में आपके ब्लॉग पर कितने विजिटर्स आ रहे हैं, कौन सी पोस्ट पर आ रहे हैं कौन सी Query Search करके आ रहे हैं कितना समय बिता रहे हैं, जिसे देख कर आप अपनी आगे की रणनीति भी बना सकते हैं साथ साथ आप Improve भी कर सकते हैं !

अपने Niche/Topic चुनिये

  • ये करना बेहद आसान है जो भी टॉपिक आपको लगता है कि आप इसमें बेस्ट हैं उस पर लिखिए क्यूंकी उसी पर आप दिल से लिख पाएंगे और उसी पर आप लंबे समय तक भी लिख पाएंगे, और थकेंगे भी नहीं !
  • अपना चयन और भी आसान करने के लिए आप ये वीडियो देख सकते हैं !

अपने Topics की लिस्ट बनाइये

  • जब एक बार आपने अपना niche चुन लिया तो आपको पता ही होगा कि इसमे कौन कौन से टॉपिक आते हैं उनकी लिस्ट बनाना शुरू कीजिये, आप MS Word या Excel कुछ भी प्रयोग कर सकते हैं !
  • कम से कम 10 टॉपिक लिखिए, और लिस्ट में कम से कम 4-5, क्या क्यूँ कैसे वाले टॉपिक होने चाहिए, क्यूंकी किसी भी Niche का Basic यही है !

अपने Competitors को जानिए

  • सबसे आसान तरीका है जो आपने टॉपिक लिखे हैं उन्हें गूगल पर सर्च कीजिये और हर टॉपिक के लिए कम से कम 5 शुरुआती वेबसाइट्स के लिंक को कॉपी करके रख लीजिये !
  • इसके अलावा आप NeilPatel.com पर भी अपने niche से related query डाल कर अपने आगामी Competitors को देख सकते हैं !
  • अपने Competitors को जानना बहुत जरूरी है, ताकि आप देख सकें कि वो क्या लिख रहे हैं और आप उनसे बेहतर लिख सकें !
  • अब हर टॉपिक के लिए जो भी लिंक आपने कॉपी करके रखें हैं हर एक टॉपिक के लिए उन्हें पढ़िये और उनमें कमी ढूँढने की कोशिश कीजिये कि आखिर ऐसी क्या कमी है जो आप पूरी कर सकते हैं !

अपने NIche/Topic के बेस्ट कंटेन्ट को जानिए

अपनी Niche के Competitors को जाने के बाद आप कई सारे टूल्स से उनका बेस्ट कंटेन्ट पता कर सकते हैं जैसे NeilPatel.com पर भी आप अपने Competitor के वो लेख देख सकते हैं जिन पर अच्छा Traffic आ रहा है, बस फिर क्या है

  • आपको उससे भी अच्छा कंटेन्ट बनाना है
  • उससे भी आसान भाषा में लिखना है
  • उससे भी जबरदस्त Pictures लगाने हैं
  • उससे भी अच्छी Readability बनानी है
  • उससे भी अच्छा Title देना है

अपने Targeted Readers निर्धारित कीजिये

  • लिखने से पहले ये जरूर सोच लीजिये कि आप लिख किसके लिए रहे हैं जिसके लिए भी लिख रहे हैं वैसी ही सोच अपनी भी करने का प्रयास करें
  • अपने आपको रीडर कि जगह रखकर सोचें कि आखिर रीडर को क्या चाहिए होगा और फिर उसी तरह लिखिए

लेखन

  • अपने Competitors के सभी लेखों की Average length भी देखें, जैसे कि हो सकता है कोई लेख 1000 शब्दों में हो दूसरा 900 में तथा तीसरा 1100 में हो, तो आपको याद रखना है कि आपको याद रखना है कि इन पहले 5 Results से ज़्यादा शब्द लिखने हैं यानि आपको कम से कम 1200 लिखने हैं अगर यहाँ पर अधिकतम 1100 है तो !
  • याद रखना है कि कोई घुमाव फिराव नहीं, सीधी सीधी बात ही होनी चाहिए !
  • वाक्यों को बार बार ना लिखें, बेवजह की बातों से शब्द बढ़ाने की कोशिश ना करें
  • User की जो Query है उसे ही केंद्र में रखकर लिखें, कंटेन्ट बढ़ाने के लिए इधर उधर ना जाएँ
  • लिखने में कोई जल्दबाज़ी दिखाने की जरूरत नहीं है, आप सोचते हैं कि एक घंटे में पोस्ट लिख दूँ, पर ऐसा करना ठीक नहीं है !
  • ध्यान रखिए कि आप पोस्ट को ये सोच कर लिखिए कि ये कैसे पढ़ने वाले को लाभ पहुंचाए, पढ़ने वाले का लाभ पहले अपना बाद में
  • किसी भी पूर्वाग्रह से ग्रसित ना हों, हर बात को कसौटी पर तौलें, खूब सोचें और पढ़ें |
  • लिंक लगाना जरूरी है – आप डरते हैं कि अगर मैं बाहरी लिंक लगाऊँगा तो कहीं लोग दूसरे की वेबसाइट पर ना चले जाएँ कहीं उसका अच्छा हुआ तो आप भूल जाते हैं इंटरनेट तो खुला है आप नहीं लिंक देंगे तो क्या उसके पास ट्रैफिक नहीं आएगा और अगर उसका कंटेन्ट अच्छा है तो चलेगा ही, पर अगर यहीं आप किसी अच्छी और अपने Niche की ही वेबसाइट का लिंक अपनी साइट में देते हैं तो इससे ना सिर्फ आपको रैंकिंग का फायदा मिलेगा बल्कि लोगों का यकीन भी आपके ऊपर बढ़ेगा,
  • अच्छी रैक करने के लिए Internal Linking भी जरूरी है ये भी आप जरूर कीजिये पर Same Category की पोस्ट को ही लिंक करिए

जल्दी का काम शैतान का

  • जी हाँ ये लाइन ब्लॉगिंग में भी फिट बैठती है, जल्दबाजी करेंगे तो कुछ हाथ नहीं लगेगा उल्टा थक कर बैठ जाएंगे, बस लगे रहना है, हार नहीं माननी है ! मुझे पता है आपको ऐसा बताया जाता है कि ब्लॉगिंग तो बच्चों का खेल है और आज ब्लॉग बनाओ ये वाला keyword लगाओ और बस करोड़पति ! ये सच नहीं है !
  • आपको ये भी लगता है कि हर दिन एक पोस्ट लिखना जरूरी है चाहे कुछ भी लिख दो, ऐसा भी नहीं है आपको क्वालिटी देनी है चाहे आपको उसके लिए 1 हफ्ता क्यूँ ना लग जाये, सबसे अच्छा कंटेन्ट बनाना है खुद बनाना है बिलकुल जल्दी नहीं करनी है !

अपने लेखन से आपको ये हासिल करना है

अपनी पहचान बनाइये

  • ब्लॉगिंग में अब तक सीखी गयी बातों में ये सबसे महत्वपूर्ण है, अगर आप ये करने में कामयाब हो गए तो जल्द ही ब्लॉगिंग में भी कामयाब हो जाएंगे, लोगों को आपका नाम पता होना चाहिए, अक्सर नए ब्लॉगर यही गलती करते हैं कि वो अपने आपको एक कंपनी की तरह दिखाते हैं, जबकि होना ऐसा चाहिए कि लोग उन्हें लोग उनकी तरह ही जानें !
  • आप खुद ही देख लीजिये आप किसी कंपनी से ज़्यादा किसी व्यक्ति की बात मानेंगे क्यूंकी कंपनी तो सब जानते हैं अपने लाभ के लिए झूठ भी बोल सकती है, तो हमारे अंदर अपने आप ही किसी व्यक्ति पर ज़्यादा विश्वास होता है किसी कंपनी की अपेक्षा, आप इसका एक उदाहरण देख सकते हैं कि जीवन बीमा के बिज़नस में वो व्यक्ति कामयाब होता है जिसकी जान पहचान ज़्यादा हो लोग उसे ये भी बोल कर पैसे देते हैं कि “हमें तो आप पर भरोसा है “

भरोसा कायम कीजिये

  • आप ये समझ लीजिये कि जिस भी वेबसाइट पर लोगों का भरोसा होता है उसी पर गूगल भी भरोसा कर लेता है, क्यूंकी लोग उसी को बार बार सर्च करके आते हैं !
  • ये करने के लिए कभी भी कोई ऐसी जानकारी साझा मत कीजिये जिस पर सच में आपको भरोसा ना हो !
  • कोई भी जानकारी साझा करने पर उसकी सोर्स अवश्य दें इससे विश्वास बढ़ता है, आप ही सोचिए जब आप किसी को कोई जानकारी देते हैं और वो आपसे पूछता है कि आपको कैसे पता और आप यदि उसे कोई सोर्स दे देते हैं तो वो यकीन कर लेता है इसी तरह ब्लॉग पर भी लोग उस पर ज़्यादा यकीन करते हैं जो सोर्स देता है ! विकिपीडिया को ही देख लीजिये !
  • ईमानदार रहिए जो भी सच है वो बोलिए, हो सके तो कड़वा नहीं पर सच बोलिए !

Better Truth बोलिए Bitter Truth नहीं

लोगों की ज़िंदगी में कुछ कीमती जोड़िए

  • ब्लॉगिंग में आप एक बात और याद रखिए कि लोगों का हित अपने हित से पहले रखना है, आप पूरी दुनिया के जीतने भी सफल बिज़नस हैं उनकी लिस्ट उठा कर देख लीजिये, उन्होने लोगों की ज़िंदगी में कुछ खास जोड़ा है ! उन्होने पहले क्वालिटी दी है फिर कुछ कमाने की चाह की है अगर आप सिर्फ सैमसंग को देखें तो उसके R&D का खर्चा ढेर सारी कंपनियों के पूरे टर्नओवर से भी ज़्यादा होता है !
  • ये अपनी पूरी शक्ति इस बात में झोंक देते हैं कि हम उपभोक्ता को सबसे अच्छा कुछ दें, ये नहीं सोचते कि कैसे भी बस एक बार आदमी मोबाइल खरीद ले और हम करोड़पति हो जाएँ
  • आपको कुछ ऐसा बताना है जिससे उन्हें ये एहसाह हो जाये कि हाँ यही तो मैं जानना चाहता था या अरे ये तो मुझे पता ही नहीं था !

अपने पाठकों को पहचानिए

  • शुरुआत में हम लोग एक बड़ी गलती करते हैं कि हम हमारे पाठकों को नहीं पहचान पाते ये नहीं तय कर पाते कि उनको क्या पसंद आ रहा है !
  • जैसे आप काफी सारे ब्लॉग देखेंगे कि किसी एक Category में वो बहुत अच्छा लिख रहे हैं पर फिर भी क्यूंकी उन्हें लगता है कि दूसरी Category पर अच्छा ट्रैफिक आता है उसमें लिख देता हूँ और वो उसमें भी लिखने लगते हैं तो उससे होता क्या है कि लोग आते तो हैं पढ़ने पर सिर्फ एक या दो पोस्ट पढ़कर ही चले जाते हैं और
  • आपकी पहचान भी नहीं बन पाती तो देखिये कि लोग आपकी कौन से प्रकार की पोस्ट पसंद कर रहे हैं उसी प्रकार कि पोस्ट बनाना शुरू कीजिये
  • जब Related post में भी आपके पाठकों को आपकी बेस्ट लेखन वाली पोस्ट दिखाई देंगी तो वो उन्हें भी पढ़ेंगे तो ज़ाहिर है ज़्यादा देर साइट पर रहेंगे इससे आपकी रैंक भी अच्छी होगी और आपके Visitors का अनुभव भी सुधरेगा !

लोगों को जोड़ना जरूरी है

  • हमारा ये सोचना कि एक बार कोई हमारी वेबसाइट पर आ गया, अब तो उसे हमारी साइट या ब्लॉग पता चल गया वो तो फिर आएगा, “ऐसा नहीं होता है लोग अच्छी अच्छी वेबसाइट्स का भी नाम भूल जाते हैं अक्सर फिर कभी कभी ढूंढते रहते हैं कौन सी वेबसाइट थी याद नहीं आ रहा !
  • इसलिए उन्हें Push Notification, ईमेल, Social Media (Twitter, Facebook, Pinterest) आदि के द्वारा जोड़ना बहुत जरूरी है !
  • सभी Social Media पर अपना Account बनाइये और नियमित तौर पर अपनी पोस्ट्स उस पर शेयर कीजिये !

सर्च इंजन में ब्लॉग को Index कराना

यहाँ पर तीन Steps होते हैं – 1. Crawling 2. Indexing 3. Serving

  1. सबसे पहले अपने ब्लॉग को सर्च कंसोल में Add कीजिये
  2. फिर उसके बाद एक साइटमैप भी Add कीजिये
  3. अपने ब्लॉग का लिंक 2-3 जगह शेयर कीजिये जिससे जल्दी से गूगल आपकी साइट को Crawl कर ले (जो नई वेबसाइट/ब्लॉग किसी भी अन्य वेबसाइट से नहीं जुडा होता उसे crawl करने में गूगल को ज़्यादा समय लगता है)

ब्लॉग से पैसे कमाना

ये करने के काफी सारे तरीके हैं जिनमें से सच में दो ही कामयाब तरीके हैं

  1. Ads – जिसमें अगर आपको गूगल Adsense का Approval मिल जाये तो बात बन जाती है !
  2. Affiliate – ये आप अपने Niche के अनुसार ही चुनें, सबसे सही Amazon Affiliate program है आप किसी भी Niche में हों आपको यहाँ कुछ ना कुछ मिल ही जाएगा !

उम्मीद है आपको पोस्ट पसंद आयी होगी, यदि कोई प्रश्न हो तो आप कमेन्ट में पूछ सकते हैं !

2 thoughts on “ब्लॉगिंग की रॉकेट स्टार्ट गाइड | Super Fast Guide”

Leave a Comment